स्काउट्स, मार्गदर्शिकाएँ और N.C.C.

 

 

केवी ओएनजीसी पनवेल एक बहुत मजबूत स्काउट और गाइड इकाई है, जो हर हफ्ते मिलता है.

   

विद्यालय स्काउट और गाइड और एक कंपनी है जो प्रशिक्षित शिक्षकों द्वारा निर्देशित कर रहे हैं शावक और Bulbuls के प्रत्येक के दो प्रत्येक कंपनियों है.

   

नियमित शिविरों और परेड का भी आयोजन किया जाता है.

   

इस गतिविधि के लिए दूसरे पर एक हाथ पर सहयोग और सामुदायिक जीवन की भावना और नेतृत्व और उद्यम के गुणों के विकास के अलावा, नैतिक, सामाजिक और लोकतांत्रिक मूल्यों से लैस करने में मदद करता है.

   

केवी ओएनजीसी पनवेल छात्रों को सफलतापूर्वक केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वारा आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों और प्रतियोगिताओं में समय - समय जैसे भाग लिया है राष्ट्रपति पुरस्कार और राज्य पुरस्कार पुरस्कार.

 

 

स्काउट और गाइड 2010-2011 रिपोर्ट 

 

स्काउटिंग और मार्गदर्शन के एक शैक्षिक आंदोलन खुली हवा में खेल पर आधारित है. स्काउट और गाइड सैर से जानने के लिए और खेलने रास्ता तरीकों जो एक बच्चे में अभिन्न विकास लाता है. वे अच्छा नेता के रूप में अच्छी तरह से अच्छा अनुयायियों और देश के सच्चे नागरिकों बन जाते हैं. वे हमेशा शारीरिक रूप से फिट, मानसिक रूप से जाग और नैतिक रूप से ईमानदार रहना. वे एक वास्तविक स्थिति में जीवन की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है. उनका रवैया पूरी तरह से बदल गया है और वे भी बनाने कभी नहीं समाज के लिए समस्याओं के रूप में के रूप में अच्छी तरह से माता पिता.
हमारे विद्यालय में 75 Bulbuls और 37 मार्गदर्शिकाएँ और 64 स्काउट्स जो स्काउटिंग और मार्गदर्शन में गहरी रुचि ले रहे हैं. छठी कक्षा के 25 स्काउट्स के बारे में इस वर्ष Investiure के समारोह में भाग लिया है. पहले सोपान के लिए कार्यक्रम चल रहा है और राज्य पुरस्कार और राष्ट्रपति पुरस्कार के लिए तैयारी भी चल रहा है.
इलेवन सी वर्ग की मेघना गौतम 2010-11 में राज्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. स्कूल के फरवरी महीने में एक दिन शिविर का आयोजन किया है प्रभु Baden पॉवेल के जन्मदिन के शुभ अवसर पर 22 पर.
स्काउट एवं गाइड, शावक और बुलबुल वर्गों 26 जनवरी 2011 प्रभात फेरी में सह समन्वय.
Mrs.Reena Bhatacharya, श्री KirodiLal मीणा और श्री बी.के. पंड्या केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वारा आयोजित बुनियादी प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में भाग लिया.

 CUBS AND BULBUL

irpaoT- kbsa AaOr baulabaula maIiTga [2011 12]

kbsa AaOr baulabaula pazyaËma ko Anausaar hr Sainavaar kao laI jaanao vaalaI maIiTMga ko Ant-gat

navambar mahInao maoM dI ga[- ivaYayavastu pr jaanakarI dI gayaI.

 

Ëma

saM#yaa

 

idnaaMk

mahInaa

ivaYayavastu ijasako baaro maoM jaanakarI dI gayaI.

1

5º11º11

 

navambar

 

 

kbsa AaOr baulabaula kI ]pisqait dja- kI gayaI. kbsa AaOr baulabaula kao kbsa AaOr baulabaula naadÊ kbsa ga`IiTga krvaayaI gayaI.

2

12º 11º 11

 

navambar

 

 

iWtIya Sainavaar ³ AvakaSa´

3

19º 11º 11

 

navambar

 

 

kbsa AaOr baulabaula kao p`aqa-naaÊ baulabaula gaIt krvaayaa gayaa tqaa kbsa AaOr baulabaula ko Wara ibanaa Aaga jalaae Kanaa

pkayaa gayaa.

4

26º 11º 11

 

navambar

 

kbsa AaOr baulabaula kao kbsa AaOr baulabaula inayama eMva maaogalaI hMiTgaÊ baulabaula gaIt krvaayaa gayaa.

 

 

gauD Tna- sao sambainQat sauivacaar

"Five frogs are sitting on a log. Four decide to jump off. How many are left? There are still five - because there's a difference between deciding and doing."

 

 

 

 

ivaSaoYa   14 navambar kao kbsa AaoOr baulabaula ]%sava manaayaa gayaa.

sadBaavanaa idvasa ko Ant-gat sadBaavanaa rOlaI inakalaI gayaI.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


kbsa AaOr baulabaula kI saM$yaa

Ë ºsa

kbsa

 

baulabaula

 

58

 

83

 

Ë` ºsaM

kbsa maasTr

 

Flaak laIDr

1

EaImatI gaIta rava

 

EaImatI saMjaIvanaI ra]t

2

EaImatI naIta sa@saonaa

 

EaImatI rInaa BaTTacaaya-

3

EaImatI gaIta knnaaOijayaa

 

EaImatI ranaU sarkar

4

EaI ikraoD,Ilaala maInaa

 

EaImatI p`tIxaa

 

 

mau#yaaQyaaipka   hstaxar                                  p`acaaya-  hstaxar